बार-बार चेक करने से भी बढ़ जाता है बीपी – डॉ अश्लेष

hitechwebinar

विश्व हृदय दिवस पर हाइटेक के विशेषज्ञ ने दिए महत्वपूर्ण टिप्स

विश्व हृदय दिवस पर तीन महाविद्यालयों के फैकल्टी एवं विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए आज हाइटेक सुपरस्पेशालिटी हॉस्पिटल के इंटरवेंशन कार्डियोलॉजिस्ट डॉ अश्लेष तिवारी ने हृदय की सुरक्षा करने के कई टिप्स दिए। घर पर ही पल्स और बीपी की मॉनटरिंग करने वालों को आगाह करते हुए उन्होंने कहा कि बार-बार बीपी चेक करना उचित नहीं है। इससे व्यग्रता बढ़ती है जो बीपी को बढ़ा सकती है।
डॉ अश्लेष ने कहा कि इलेक्ट्रानिक मशीन से बीपी और पल्स चेक करना इन दिनों फैशन की हद तक चला गया है। पर उपकरण उपलब्ध होने का मतलब यह नहीं है कि हम बार-बार बीपी चेक करें। वैसे भी जब भी बीपी चेक करना हो तो तीन बार बीपी लें और फिर उसका औसत निकाल लें। इसके आधार पर स्वयं की मेडिसिन की डोज निर्धारित करना भी आपको खतरे में डाल सकती है।
उन्होंने कहा कि स्वस्थ हृदय के लिए हमें भोजन और दिनचर्या के बीच अच्छा तालमेल बैठाना होगा। प्रतिदिन कम से कम 20 मिनट शारीरिक श्रम करना होगा। आप तेज कदमों से पैदल चल सकते हैं, जॉगिंक कर सकते हैं, पीटी या कसरत कर सकते हैं। ध्यान रखें कि कसरत करते समय आपके दिल की धड़कनें तेज हों और सांसों की रफ्तार भी बढ़े। उन्होंने कहा कि आमदनी बेहतर होते ही हमारा भोजन शाही होने लगता है और शारीरिक श्रम शून्य के करीब पहुंच जाता है। इसका दिल पर बुरा असर होता है।
कोरोना काल में हृदय की देखभाल को और भी जरूरी बताते हुए उन्होंने कहा कि इन दिनों अस्पताल तक जाना या एडमिट होना बेहद मुश्किल हो चला है। ऐसे में हृदय रोगियों को चाहिए के वे अपने चिकित्सक के सतत् सम्पर्क मे रहें। जो भी दवाइयां चल रही हों, उन्हें नियमित रूप से लें। जरा सी भी लापरवाही भारी पड़ सकती है। लॉकडाउन पीरियड में भी स्वयं को सक्रिय रखने के लिए घर पर ही थोड़ी थोड़ी कसरत करें। भोजन का विशेष ध्यान रखें।
एमजे ग्रुप की निदेशक श्रीलेखा विरुलकर के निर्देशन में हुए इस वेबीनार के आरंभ में डॉ अश्लेष का संक्षिप्त परिचय व्याख्याता दीपक रंजन दास ने दिया। एमजे कालेज ऑफ फार्मेसी के प्राचार्य डॉ टिकेश्वर कुमार, एमजे कालेज ऑफ नर्सिंग की प्राचार्य सी. कन्नम्मल, उप प्राचार्य सिजी थॉमस, बीएड की प्रभारी डॉ श्वेता भाटिया, एनएसएस प्रभारी डॉ जेपी कन्नौजे, आइक्यूएसी की प्रभारी अर्चना त्रिपाठी सहित लगभग सौ प्रतिभागियों ने वेबीनार का लाभ लिया। एमजे कालेज के प्राचार्य डॉ अनिल कुमार चौबे ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here