विश्व कैंसर दिवस पर बालको मेडिकल सेंटर द्वारा “योगाथॉन” का आयोजन

balcocancerday

विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर बालको मेडिकल सेंटर कैंसर के प्रति जागरूकता लाने के लिए कटिबद्ध है।  मध्य भारत का सुप्रसिद्ध एवं सर्व सर्वसुविधायुक्त,आधुनिक कैंसर अस्पताल, बालको मेडिकल सेंटर इस वर्ष “योगाथॉन” का आयोजन कर रहा है।

इस अवसर पर मीडिया को संबोधित करते हुए बालको मेडिकल सेंटर के मुख्य परिचालन अधिकारी एस. वेंकट कुमार ने कहा, “हम कैंसर के प्रति जागरूकता लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम समय समय पर स्क्रीनिंग कैंप लगाकर कैंसर की जांच एवं शीघ्र निदान करते है।  हमारी विभिन्न स्वास्थ्य वार्ताओं के माध्यम से, हम जागरूकता पैदा करते हैं और शुरुआती जांच को प्रोत्साहित करते हैं। विश्व कैंसर दिवस पर बालको मेडिकल सेंटर इस वर्ष “योगाथॉन” का आयोजन कर रहा है। जिसके माध्यम से हम लोगों को स्वस्थ जीवन शैली अपनाने और योग के माध्यम से तनाव-मुक्त जीवन शैली को अपनाने का सन्देश देना चाहते हैं।

यह योगाथॉन सुबह 6 बजे रायपुर में अनुपम गार्डन में आयोजित किया जायेगा।  इसके अतिरिक्त बालको मेडिकल सेंटर 4-8 फरवरी 2021 तक मुफ्त कैंसर जांच शिविर का भी आयोजन कर रहे है, जिसके अंतर्गत पैप स्मीयर, एफ. एन. ए. सी., ब्रश सायटोलाजी, डिजिटल मैमोग्राफी एवं कैंसर, स्त्री रोग, एवं आहार विशेषज्ञ द्वारा परामर्श का लाभ लोगों को मिलेगा। इसके इलावा जिला अस्पताल, कालीबाड़ी में भी हमारे द्वारा निःशुल्क कैंसर जांच शिविर का आयोजन किया जा रहा है।  स्तन एवं बच्चेदानी के कैंसर पर बालको मेडिकल सेंटर के डॉक्टरों द्वारा एस. बी. आइ. के लेडीज क्लब में व्याख्यान भी दिया जायेगा।  शाम को माई एफ.एम. 94.3 के साथ मिलकर मैग्नेटो मॉल में एक सामाजिक जागरूकता कार्यक्रम भी चलाया जायेगा।“

इस अवसर पर, बालको मेडिकल सेंटर में नए मेडिकल डायरेक्टर का भी आगमन  हुआ है। डॉक्टर प्रोफेसर अनुराग श्रीवास्तव जी ने बालको मेडिकल सेंटर में हाल ही में बतौर मेडिकल डायरेक्टर कार्य प्रभार संभाला है।  सर्जिकल क्षेत्र में 42 सालों के अनुभवी, डॉक्टर श्रीवास्तव पहले एम्स, नई दिल्ली में डिपार्टमेंट ऑफ़ सर्जिकल डिसिप्लिन्स के प्रमुख के रूप में कार्यरत थे। कैंसर के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से उन्होंने कहा, “कैंसर एक बिमारियों का गुट हैं जिसमें क्रमादेशित कोशिकाओं की मृत्यु की क्षमता दोषपूर्ण हो जाती है और वे लगातार विभाजित होते रहते हैं। उन्होंने कैंसर के विभिन्न कारणों को समझाया जिसमें तम्बाकू का सेवन सबसे बड़ा कारण है। इसके अलावा, गतिहीन जीवन शैली, मोटापा और बढ़ती उम्र अन्य कारक हैं। उन्होंने भगवद् गीता से सिखाया कि कैसे हमारे पूर्वजों ने स्वस्थ सात्त्विक भोजन की आदतों का पालन किया और स्वस्थ रहने के लिए शराब और तम्बाकू जैसे व्यसनों से दूर रहना सिखाया।“

कैंसर उपचार में विभिन्न उन्नत के बारे में बताते हुए, जो  बालको मेडिकल सेंटर प्रदान करता है, चिकित्सा सेवाओं के प्रमुख डॉ। जयेश शर्मा ने कहा, “हम यहां विभिन्न प्रकार के कैंसर का इलाज करते हैं। जब शुरुआती अवस्था में रोगी हमारे पास आते हैं तो हम खुश हो जाते हैं, क्योंकि तब कैंसर के पूर्णः ठीक होने की संभावना बहुत अधिक होती है। हाल ही में हमने एक युवा महिला का इलाज किया है, जिसे डर था कि उसे स्टेज 4 कैंसर है और उसके जीने की कोई उम्मीद नहीं है, लेकिन उन्नत और सटीक नैदानिक सुविधाओं के कारण जो हमारे यहां उपलब्ध हैं, यह पाया गया कि उसे स्टेज 1 कैंसर है और अब वह सफलतापूर्वक इलाज के बाद पूर्णतः स्वास्थ्य लाभ कर रही हैं। इसी प्रकार हमने एक ९५ वर्षीया वृद्ध का  भी कैंसर का इलाज किया है जो अभी पूरी तरह से स्वस्थ है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here